Hindi Lekhani

Category : कविता

  मैं अभारी हूँ !!!

शिफ़ा अंजुम
मैं अभारी हूँ आपकी  मैं आभारी हूँ आपकी “गुरु”… गुरु आपने बुझते हुए चमन, पर आपने बनादिया मुश्कें खुटन। आप ने खान -खान पिघलकर हम्मे