Hindi Lekhani

Category : हिन्दी साहित्य

  मैं अभारी हूँ !!!

शिफ़ा अंजुम
मैं अभारी हूँ आपकी  मैं आभारी हूँ आपकी “गुरु”… गुरु आपने बुझते हुए चमन, पर आपने बनादिया मुश्कें खुटन। आप ने खान -खान पिघलकर हम्मे

सावधान ! शिकारी मर्द शिकार पर है

क्या आप सबने कभी सुना है कि मर्दों की कई प्रजातियां होती है, वैसे होती तो औरतों की भी हैं लेकिन फ़िलहाल हम बात करेंगे

इस युग की कहानी – मार्डन सावित्री 

अर्चना चतुर्वेदी
सत्यवान सावित्री की कहानी तो प्राय: सबने सुनी होगी | क्या आज के युग में कोई सावित्री होगी ? यदि होगी तो कैसी होगी ?

“आतंकवादी का धर्म”

  “आतंकवादी का धर्म” वो चारों यूं तो अलग-अलग सम्प्रदायों से थे, लेकिन उन्हें सिखाया गया था कि उनका धर्म लोगों को मारना-काटना ही है.